Child Development and Pedagogy gk in hindi (बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) Part-9 विगत परीक्षाओं में पूछे गये महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर


हेल्लो दोस्तो , कैसे हैं आप सभी ? में आशा करता हूँ कि आप सबकी की पढाई अच्छी ही चल रही होगी.
मित्रों आज की पोस्ट में हम बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र से संबंधित उन प्रश्नों के बारे में आप से साझा करेंगे जो शिक्षक बनने की परीक्षाओं जैसे UTET, CTET , UPTET , UP Teacher RECRUITMENT , HTET , REET आदि में कहीं न कहीं पूछे जा चुके हैं.और आगे भी यह प्रश्न अक्सर परीक्षाओं में पूछे ही जाते रहते हैं. इस प्रकार के प्रश्न उन सभी परिक्षाओं में पूछे जाते जिनमें Child Development and Pedagogy विषय होता है. इसलिए मित्रों इन सभी प्रश्नों को अच्छे से याद कर लें.
Child Development and Pedagogy gk in hindi (बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र) Part-9 विगत परीक्षाओं में पूछे गये महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर
Child Development and Pedagogy के विगत वर्षों के प्रश्नोत्तरों से संबंधित यह हमारा PART- 09 है.
इसी तरह बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र के अन्य पार्ट भी हम लगातार आपको अपनी वेबसाइट गुरूजी पोर्टल के माध्यम से शेयर करते रहेंगे तो आप सभी से अनुरोध है कि आप अभी हमारी वेबसाइट को डेली विजिट करते रहें और प्रश्नों की अपडेट लेते रहें.
‘अन्‍तर्दृष्टि या सूझ द्वारा सीखना’ सिद्धांत किसने दिया है – कोहलर

जब पूर्व का अधिगम, नयी स्थितियों में सीखने पर किसी भी प्रकार से कोई प्रभाव नहीं डालता है, तो यह कहलाता है – अधिगम का शून्‍य स्‍थानान्‍तरण

स्‍कीनर द्वारा प्रतिपादित अधिगम सिद्धांत है – क्रियाप्रसूत  अनुबन्‍धन

अधिगम अन्‍तरण का थॉर्नइाइक सिद्धांत कहा जाता है – अनुरूप तत्‍वों का सिद्धांत

समस्‍या के अचानक समाधान की वकालत करने वाले सिद्धांत का नाम है – सूझ का सिद्धांत

निम्‍नलिखित में से कौन S-R अधिगम सिद्धांत से संबंद्ध नहीं है – स्किनर

अधिगम का सम्‍बद्ध प्रतिक्रिया सिद्धान्‍त निम्‍न में से किसने प्रतिपादित किया – आई.पी.पॉवलाव

आप अपने जूते एक रैक पर रखते हैं। उस रैक को उस स्‍थान से हटा दिया है फिर भी आप जूते रखने उसी स्‍थान पर जाते हैं जहाँ पर पहले रैक रखी थी। ऐसा होने का कारण है – अनुबंधन

वाटसन के अनुसार शैशवावस्‍था में सीखने की सीमा और तीव्रता विकास की ओर किसी भी अवस्‍था की तुलना में अधिक होती है, इस कथन को ध्‍यान में रखकर शैशवावस्‍था में शिक्षा के आयोजन हेतु निम्‍न में कौन सी क्रिया निषेध होना चाहिए – मूल प्रवृत्तियों का दमन

अधिगम सर्वोत्‍तम होगा जब – अभिप्रेरणा होगी

निम्‍न में से कौन सा कथन अधिगम की प्रक्रिया को उचित ढंग से प्रस्‍तुत करता है – व्‍यवहार में परिवर्तन

साइकिल चलाने वाला स्‍कूटर चलाना शीघ्र ही सीख लेता है, यह है – धनात्‍मक स्‍थानान्‍तरण

हल सिद्धान्‍त किस प्रक्रिया से सम्‍बन्धित है – सीखने की व्‍याख्‍या के सबलीकरण से

कोहलर ने अधिगम संबंधी प्रयोग किए – चिंपाजी पर

गेस्‍टाल्‍ट का अर्थ है – पूर्णाकार

सीखने का अन्‍तर्दृष्टि सिद्धान्‍त किसकी देन है – गेस्‍टाल्‍टवादियों

गेस्‍टाल्‍टवाद के प्रतिपादक हैं – वर्दीमर

सीखने की प्रक्रिया में विद्यार्थी द्वारा की गई त्रुटियों के सम्‍बल्‍ध में आपकी दृष्टि में निम्‍नलिखित में से कौन सा कथन सर्वोत्‍तम है – त्रुटियाँ अधिगम प्रक्रिया का भाग है।

क्रिस्‍टना अपनी कक्षा को क्षेत्र भ्रमण पर ले जाती है और वापस आने पर अपने विद्यार्थियों के साथ भ्रमण पर चर्चा करती है, यह ……….. की ओर संकेत करता है – सीखने का आंकलन

कम गति से सीखने वाले बच्‍चों के लिए अध्‍यापक को क्‍या करना चाहिए – टोली-शिक्षण, अतिरिक्‍त ध्‍यान व शिक्षण, प्रोत्‍साहन

शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया को प्रारम्‍भ करने से पहले एक कुशल अध्‍यापक को क्‍या करना चाहिए – अधिगम परिस्थियाँ उत्‍पन्‍न करनी चाहिए।

वैचारिक क्रिया अवस्‍था होती है – 7 से 12 वर्ष तक

अधिगम के प्रक्रम में अभ्रिप्रेरणा – नए सीखने वालों में अधिगम के लिए रूचि का सृजन करता है।

एक शिक्षक होने के नाते आप सीखने के किस नियम को नहीं अपनायेंगे – प्रलोभन का नियम

सीखने की प्रक्रिया में अभिप्रेरणा – शिक्षार्थियों में सीखने के प्रति रूचि का विकास करती है।

अधिगम निर्योग्‍यता (Learning Disability) का लक्षण है – अवधान संबंधी बाधा/विकार

एक क्रिकेट खिलाड़ी अपनी गेंदबाजी के कौशल को विकासित कर लेता है पर यह उसका बल्‍लेबाजी के कौशल को प्रभावित नहीं करता, इसे कहते हैं – शुन्‍य प्रशिक्षण अन्‍तरण

अधिगम में वृद्धि की जा सकती है – प्रोत्‍साहन देकर

निम्‍न में से कौन से कथन को सीखने की प्रक्रिया की विशेषता नहीं मानना चाहिए – शैक्षिक संस्‍थान ही एकमात्र स्‍थान है जहाँ अधिगम प्राप्‍त होता।

अनुबंधन के गोचर की शुरूआत ………. के द्वारा की गई थी – पावलॉव

जिस प्रक्रिया में व्‍यक्ति दूसरों के व्‍यवहार को देखकर सीखता है, न कि प्रत्‍यक्ष अनुभव को, कहा जाता है – सामाजिक अधिगम

पाँच वर्ष का राजू अपनी खिड़की के बाहर तूफान को देखता है, बिजली चमकती है और कड़कने की आवाज आती है, राजू शोर सुनकर उछलता है बार-बार यह घटना होती है फिर कुछ देर बाद शांति के पश्‍चात-बिजली कड़कती है, राजू बिजली की गर्जंना सुनकर उछलता है, राजू का उछलना सीखने के किस सिद्धान्‍त का उदाहरण है – शास्‍त्रीय अनुबंधन

कौन सा सीखना स्‍थायी होता है – समझकर

संकेत अधिगम के अन्‍तर्गत निम्‍नलिखित सीखा जाता है – पारम्‍परिक अनुकूलन

कक्षा प्रथम का विद्यार्थी एक शिक्षक से मार खाने के उपरान्‍त सभी शिक्षकों से डरने लगता है, यह उदाहरण है – अनुबंधित सिद्धान्‍त का

अधिगम को प्रभावित करने वाला व्‍यक्तिगत कारक है – परिपक्‍वता एवं आयु

मनोवैज्ञानिक थार्नडाइक ने व्‍यक्तित्‍व को किस आधार पर बाँटा गया है – चिन्‍तन व कल्‍पना शक्ति के आधार पर

‘प्रयास व त्रुटि’ में सबसे महत्‍वपूर्ण क्‍या है – अभ्‍यास

यदि आपकी कक्षा का बच्‍चा ‘C’ को ‘D’ व ‘D’ को ‘C’ लिखे/पढ़े तो वह कौन से रोग से पीडि़त है – डिसलेक्सिया

 सीखने से सम्‍बन्धित तथ्‍य निम्‍नलिखित में से नहीं है – सीखना केवल विद्यालय में होता है।

कौन सा सिद्धान्‍त व्‍यक्‍त करता है कि मानव मस्तिष्‍क एक बर्फ की बड़ी चट्टान के समान है जो कि अधिकांशत: छिपी रहती है एवं उसमें चेतन के तीन स्‍तर है – मनोविश्‍लेषणात्‍मक सिद्धान्‍त

जिन इच्‍छाओं की पूर्ति नहीं होती, उनका भण्‍डार गृह निम्‍नलिखित में से कौन सा है – इदम (ID)

3H (हेड-हर्ट-हैण्‍ड) का सम्‍प्रदाय चलाया – पेस्‍टालॉजी

थॉर्नडाइक के सीखने का मुख्‍य नियम है – प्रभाव का नियम

इमली का नाम लेने से मुँह में पानी आ जाने के कारण को निम्‍नलिखित में से कौन-से सिद्धान्‍त से जानेंगे – उद्दीपक प्रतिक्रिया

अधिगम का मुख्‍य चालक कहलाता है – अभिप्रेरणा

व्‍यवस्थित व्‍यवहार के सिद्धान्‍त के प्रवर्तक है – हल

एक विद्यार्थीदो वस्‍तुओं के मध्‍य भेद समझ चुका है, वह किस शैक्षिक उद्देश्‍य की प्राप्ति तक पहुँच चुका है – अवबोध

अधिगम क्‍या नहीं है – केवल पढ़ाई

श्रृंखला अभिक्रमित अनुदेशन सीखने के जिस सिद्धान्‍त पर आधारित है – क्रिया प्रसूतन सिद्धान्‍त

विषय-वस्‍तु अधिक होने पर शिक्षण प्रभावी होगा – अंशो में शिक्षण के माध्‍यम से

पुनरावृत्ति का सिद्धान्‍त दिया – पावलाव ने

एक बालक एक बार में आग में जलने के बाद अग्नि से दूर रहता है – शास्‍त्रीय अनुबंधन का सिद्धान्‍त

”सीखना आदतों, ज्ञान व अभिवृत्तियों का अर्जन है।” कथन है – क्रो एण्‍ड क्रो

अधिगम की सफलता का मुख्‍य आधार माना जाता है – लक्ष्‍य प्राप्ति की उत्‍कृष्‍ट इच्‍छा

शिक्षक द्वारा बालकों में किस प्रकार पाठ्य विषय के प्रति आकर्षण उत्‍पन्‍न किया जाए – ध्‍यान केन्द्रित करके

उद्दीपन तथा अनुक्रिया के मध्‍य संबंध स्‍थापना का कार्य पुनर्बलन नहीं करता है संबंध स्‍थापनाका कार्य उद्दीपक व उसके द्वारा की गई अनुक्रिया के माध्य समीपता करती है यह किस मनोवैज्ञानिक का विचार है – गुथरी

अधिगम के मानवतावादी सिद्धान्‍त के प्रतिपादक है – कार्लरोजर्स

अधिगम स्‍थानान्‍तरण का सबसे पुराना सिद्धान्‍त है – मानसिक शक्ति का सिद्धान्‍त 

लेविन के अनुसार व्‍यवहार, व्‍यक्ति तथा वातावरण कार्य हैं। इन्‍होनें किस सिद्धान्‍त में इस बात को महत्‍व दिया है – क्षेत्रीय सिद्धान्‍त

संप्रेषण से आशय है – विचारों का आदान-प्रदान

बालक को सीखने के लिए सर्वाधिक उत्‍तम मनोविज्ञान अध्‍ययन विधि – निरीक्षण

स्‍वामित्‍व अधिगम विधि का प्रतिपादन किया – ब्‍लूम

बालक के चारित्रिक विकास के स्‍तर है – पुरस्‍कार व दण्‍ड, सामाजिकता एवं मूल प्रवृत्ति

निम्‍न में से अधिगम को प्रभावित करने वाला कारक नहीं है – लिंग

शिक्षा में शिक्षण मशीनों और कम्‍प्‍यूटर निर्देशित विधियों को उपयोगी बनाने में किस सिद्धान्‍त की देन है – क्रिया प्रसूत अनुबंधन

छोटे बच्‍चे को खरगोश के खिलौने की चीख की आवाज के माध्‍यम से भय से संबंध किस मनोवैज्ञानिक ने स्‍थापित किया – वॉटसन

”व्‍यवहार के कारण व्‍यवहार में परिवर्तन ही अधिगम है।” कथन है – गिलफोर्ड

जब शरीर के एक पक्ष के अंगो को दिया गया प्रशिक्षण दूसरे अंगों में चला जाता है तो उसे कहते है – द्विपक्षीय अंतरण

एक बालिका अपने माता-पिता को बड़ों के चरण स्‍पर्श करता देखकर बड़ों के चरण स्‍पर्श करना सीखती है, अधिगम का कौन सा सिद्धांत है – अनुकरण

”शिक्षा एक त्रिमुखी प्रक्रिया है।” कथन है – जॉन डीवी

मनोविज्ञान विश्‍वास करता है, कि बालक-बालिकाएँ सर्वाधिक सीखते हैं – अभिप्रेरणा से

बिनेटिका योजना विधि है – व्‍यक्तिगत शिक्षण

शिक्षक बालक के व्‍यवहार में किस सतह परिवर्तन कर सकता है – पुरस्‍कार द्वारा, प्रशंसा द्वारा, भृर्त्‍सना द्वारा

अधिगम को अत्‍यन्‍त प्रभावशाली बनाने का उत्‍तम तरीका है – स्‍वप्रेरणा

संभावना सिद्धांत के प्रतिपादक कौन हैं – टालमैन

तलरूप सिद्धान्‍‍त के प्रतिपादक कौन है – लेविन

सीखने के लिए विषय सामग्री का स्‍वरूप होना चाहिए – सरल से कठिन

अधिगम का सूचना प्रक्रियाकरण सिद्धांत किसने दिया – मिलर

प्रशिक्षण के स्‍थानान्‍तरण में समान तथ्‍यों के सिद्धांत के प्रतिपादक कौन हैं – थार्नडाइक

सीखने का सूक्ष्‍म सिद्धांत किसने प्रतिपादक किया – कोहलर ने

मंदबुद्धि बच्‍चों के लिए कौन सा अधिगम सिद्धान्‍त उपयोगी रहेगा – उद्दीपक अनुक्रिया

विज्ञान व गणित के सीखने के लिए उपयोगी सिद्धांत है – गेस्‍टाल्‍ट

कोहलर ने निम्‍नलिखित में से कौन सा सिद्धांत नहीं दिया – संबंधवाद

सम्‍प्रेषण / सूचना प्रक्रिया करण का सही क्रम है –  प्रेषक – स्‍त्रोत – माध्‍यम – ग्राही – पृष्‍ठ पोषण

मानसिक रोगियों के निदानात्‍मक शिक्षण में सर्वाधिक उपयोगी सिद्धान्‍त किसने प्रतिपादित किया – स्किनर

‘टाई की गांठ बांधना’ किसके सिद्धान्‍त के अनुसार व्‍यक्ति सीखते हैं – कोहलर

…………. मस्तिष्‍क की संरचना तथा कृत्‍यों में विभेद का परिणाम होता है – डिसलेक्सिया

परिवेश की वस्‍तु जिसे प्राणी प्राप्‍त करने का प्रयास करता है कही जाती है – उद्दीपक

निम्‍न में से कौन सीखने के सही उत्‍तर हैं – तथ्‍य, सूचना, बोध, ज्ञान प्राप्‍त करना, बोध, प्रज्ञान

परिपक्‍वता इत्‍यादि से व्‍यवहार में उत्‍पन्‍न परिवर्तन को भी अधिगम कहा जाता है – नहीं

अल्‍बर्ट बन्‍डूरा द्वारा दिए गए अधिगम सिद्धांत को ………….. से भी जाना जाता है – अवलोकनात्‍मक अधिगम सिद्धांत

‘सीखना विकास की प्रक्रिया है’, कथन किसके द्वारा कहा गया – वुडवर्थ

कार्यात्‍मक प्रतिवबद्धता सिद्धांत प्रतिक्रिया में मुख्‍य कारक निम्‍न में से कौन सा है – पुनर्बलन

प्रेरणा सीखने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ है, किसने कहा – स्‍कीनर

अभिप्रेरणा अधिगम का सर्वोत्‍कृष्‍ट राजमार्ग है – स्‍कीनर

अभिप्रेरणा को अधिगम का आधार कहा है – सोरेन्‍सन

”एक महिला ने भोजन प्राप्‍त करने के लिए अपने बच्‍चे को बेच दिया” इस खबर को …….. के आधार पर अच्‍छी तरह समझा जा सकता है – पदानुक्रमिक आवश्‍यकताओं का सिद्धान्‍त

छात्रों की निष्‍पति निर्भर करती है – स्‍व-प्रत्‍यय, बुद्धि, अभिरूचि, अभिप्रेरणा

निम्‍न‍ि‍लिखित में से कौन सा प्राकृतिक अभिप्रेरणा का उदाहरण नहीं है – प्रतिष्‍ठा

निम्‍न में से किसका कोई जैविकीय आधार नहीं है – संबंधन

निम्‍न के अभाव में प्रेरणा की प्रक्रिया प्रारम्‍भ नहीं हो सकती – आवश्‍यकता

कक्षा में अभिप्रेरणात्‍मक सिद्धान्‍तों का प्रयोग किया जा सकता है – उपलब्धिप्रेरणा वृद्धि हेतु, उच्‍च स्‍तरीय स्‍पर्धा टालने हेतु, तनाव कम करने हेतु।

कौन सा प्राथमिक अभिप्रेरक है – प्‍यास, भूख, काम

आंतरिक अभिप्रेरण का उदाहरण है – कार्य में रूचि

अभिप्रेरणा का मांग सिद्धांत किसने प्रस्‍तुत किया – मॉस्‍लो ने

‘अभिप्रेरणा से तात्‍पर्य छात्र की आंतरिक शक्ति को जागृत करना है’ यह कथन है – गिलफोर्ड

अध्‍यापक की प्रभावशीलता निर्भर करती है, इस बात पर कि वह – छात्रों को मानसिक रूप से कितना सक्रिय करता है।

अभिप्रेरणा का अधिगम में क्‍या महत्‍तव है – इससे अधिगम अधिगमार्थी सीखने के लिए तत्‍पर हो जाता है।

अंतर्नोद और अभिप्रेरणा में क्‍या संबंध है – अभिप्रेरणा का संबंध लक्ष्‍य से है। अंतर्नोद उस ओर बढ़ने से गति देता है।

पुरस्‍कार और दण्‍ड का अनुचित प्रयोग अधिगम को बनाता है – प्रभावहीन

‘भूख’ और ‘प्‍यास’ है – जन्‍मजात प्रेरक

अभिप्रेरणाके स्‍त्रोत कौन कौन से हैं – आवश्‍यकता, चालक, प्रेरक

मैस्‍लो के अभिप्रेरणा सिद्धांत को कहा जाता है – आवश्‍यकता पदानुक्रम का सिद्धांत

प्रेरणा का वही संबंध उपलब्धि से है, जो अधिगम का ……….. से है – बोध

पुरस्‍कार एवं दण्‍ड ………. का एक प्रकार है – बाह्य प्रेरणा

उपलब्धि आवश्‍यकता किस प्रकार का अभिप्रेरक है – सामाजिक

कक्षा में अभिप्रेरणात्‍मक सिद्धांतों का प्रयोग किया जा सकता है – उपलब्धि प्रेरणा वृद्धि हेतु, उच्‍च स्‍तरीय स्‍पर्धा टालने हेतु, तनाव कम करने हेतु।

विद्यार्थियों में अभिप्रेरणा विकसित करने के लिए एक शिक्षक को क्‍या करना चाहिए – नई तकनीक व नई विधियों का प्रयोग करना।

राजेश गणित की समस्‍या को हल करने के लिए पूरी तरह से संघर्ष कर रहा है। उसका आंतरिक बल जो, उसे उस समस्‍या को पूरी तरह से हल करने के लिए विवश करता है, ………….. के रूप में जाना जाता है– प्रेरक

प्राथमिक आवश्‍यकताओं को ………….. आवश्‍यकता से भी जाना जाता है – दैहिक

प्रक्षेपण विधि द्वारा किसका अध्‍ययन किया जाता है – अचेतन मन का

‘मूल प्रवृत्तियाँ सम्‍पूर्ण मानव व्‍यवहार की चालक है।’ यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है – मैक्‍डूगल

एक छात्र बोर्ड परीक्षा के लिए कठिन परिश्रम कर रहा है। उसके पिता ने उसे अच्‍छे अंक आने पर मोटर साइकल देने का वादा किया है। इसका अर्थ है – बाह्य प्रेरणा

किशोरावस्‍था में बालकों को सहयोग देने के लिए आवश्‍यक है – अभिप्रेरणा

एक आन्‍तरिक मानसिक दशा जो किसी व्‍यवहार को आरम्‍भ करने तथा बनाए रखने को प्रवृत्‍त करती है, कहलाती है – अभिप्रेरणा

संवेगों पर नियंत्रण पाने के लिए बालकों को अभ्‍यास कराना चाहिए – आत्‍म नियंत्रण का

निम्‍न में से कौन अभिप्रेरणा का पक्ष नहीं है – दबाव

निम्‍न में से कौनसा कार्य बाह्य प्रेरक है – कवितापाठ एवं दौड़ में भाग लेना।

सीखने के लिए आकलन – अभिप्रेरणा को बढ़ावा देता है।

निम्‍न में से कौन सी शब्‍दावली प्राय: अभिप्रेरणा के साथ अंत: बदलाव के साथ इस्‍तेमाल की जाती है – आवश्‍यकता

अभिप्रेरणा का वर्गीकरण होता है – जन्‍मजात तथा अर्जित

निम्‍नलिखित कथनों में से आप किससे सहमत है –  अधिगम एक सामाजिक-सांस्‍कृतिक परिवेश में घटित होता है।

जीन पियाजे का बाल विकास वर्गीकरण किस सिद्धान्‍त पर आधारित है – संज्ञानात्‍मक विकास सिद्धान्‍त

एक शिक्षार्थी-केन्द्रित कक्षा-कक्ष में अध्‍यापिका करेगी – इस प्रकार की पद्धतियों को नियोजित करना जिसमें शिक्षार्थी अपने स्‍वयं के अधिगम के लिए पहल करने में प्रोत्‍साहित हों।

सीखी गई क्रिया का अन्‍य परिस्थितियों में उपयोग किया जाना कहलाता है –अधिगम स्‍थानान्‍तरण

वाइगोत्‍स्‍की तथा पियाजे के परिप्रेक्ष्‍यों में एक प्रमुख विभिन्‍नता है – भाषा एवं चिन्‍तन के बारे में उनके दृष्टिकोण।

“an introduction to Social Psychology” के रचयिता थे – विलियम

पुनर्बलन के सिद्धान्‍त का प्रतिपादन किया – हल

व्‍यक्ति द्वारा जब किसी वस्‍तु को देखकर या स्‍पर्श कर ज्ञान प्राप्‍त किया जाता है, तो वह सीखना कहलाता है – प्रत्‍यक्षात्‍मक सीखना।

”सीखने की प्रक्रिया की एक प्रमुख विशेषता पठार है ये उस अवधि को व्‍यक्त करते हैं जब सीखने की क्रिया में कोई उन्‍नति नहीं होती है” यह कथन है – रॉस

अनुबंध के गोचर की शुरूआत ………. के द्वारा की गई थी – पावलाव

लघु पदों के सिद्धान्‍त का संबंध है – रेखीय अभिक्रमित

कार्यात्‍मक प्रतिबद्धता सिद्धान्‍त प्रक्रिया में मुख्‍य कारक कौन सा है – पुनर्बलन

मोहन 7A में पढ़ता है, उसे 7B में बिठाकर पढ़ाया जाता है – अधिगम का कौन सा अंतरण है – क्षैतिज

समाजीकरण एक प्रक्रिया है – मूल्‍यों, विश्‍वासों तथा अपेक्षाओं को अर्जित करने की।

पियाजे अनुमोदन करते हैं कि पूर्व-संक्रियात्‍मक बच्‍चे याद रखने में असमर्थ होते हैं। निम्‍न‍िलिखित कारकों में से किसको उन्‍होनें इस असमर्थता के लिए जिम्‍मेदार ठहराया है – विचार की अनुत्‍क्रमणीयता (पलट न सके)

पियाजे के सिद्धान्‍त के अनुसार, बच्‍चे निम्‍न में से किसके द्वारा सीखते हैं – उपयुक्‍त पुरस्‍कार दिए जाने पर अपने व्‍यवहार में परिवर्तन करना।

जब पूर्व प्राप्‍त अनुभव नवीन समस्‍या को हल करने में सहायक होता है, वह है – धनात्‍मक स्‍थानान्‍तरण

विद्यार्थियों को REET की तैयारी करवाकर NET की परीक्षा ली जाती है – ऊर्ध्‍वअन्‍तरण

कक्षा-कक्ष अधिगम के लिए कौन-सी विधि का प्रयोग किया जा सकता है – वाद-विवादविधि, प्रयत्‍न व त्रुटि विधि, अवलोकन विधि

कोहलर का अधिगम-सिद्धान्‍त निम्‍नलिखित नाम से जाना जाता है – अन्‍तर्दृष्टि का सिद्धान्‍त

थार्नडाइक मनोवैज्ञानिक थे – अमेरिका के

रीना कक्षा 2 की छात्रा है, उसे अध्‍यापिका ने डण्‍डे से पीटा। अगले दिन वह अध्‍यापिका के हाथ में डण्‍डा देखकर रोना प्रारम्‍भ कर देती है, अधिगम का अंतरण है – द्वि-पार्श्विक

निम्‍न में से जो सीखने अथवा अधिगम का नियम नहीं है – पढ़ने का

‘अनुभव के द्वारा व्‍यवहारगत परिवर्तन’ है – अधिगम

तत्‍परता के नियम का सम्‍बन्‍ध है – अधिगम से

पूर्णाकारवाद के नियम है – समरूपता, समीपता, संरचनात्‍मक

सुरेश को अंग्रेजी भाषा बोलना सिखाया जाता है, वह अंग्रेजी तो अच्‍छी बोल लेता है, परंतु अब हिन्‍दी शुद्ध नहीं बोल पाता है, अधिगम का स्‍थानांतरण है – नकारात्‍मक

अधिगम को प्रभावित करने वाले घटक है – उचित वातावरण, प्रे‍रणा, परिपक्‍वता

पावलॉव था – शरीर क्रिया वैज्ञानिक

अनुबन्‍ध प्रयोगों में अनुबंधित अनुक्रियायों का विलोपन किस कारण होता है – पुनर्बलन की अनुपस्थिति

‘अनुभव एवं प्रशिक्षण द्वारा व्‍यवहार परिवर्तन को अधिगम कहते हैं।’ अधिगम की यह परिभाषा दी गई – गेट्स ने

एक बालक का हाथ आग से जल जाता है, भविष्‍य में वह आग  को देखकर ही जलन महसूस कर लेता है, अधिगम का स्‍थानांतरण है – द्वि-पार्श्विक

प्रयासों के आधार पर अधिगम की मात्रा में समान रूप से वृद्धि होती है – रेखीय त्‍वरण वक्र

निम्‍नांकित में से किस परिस्थिति में प्राणी में निष्क्रियता सबसे अधिक पायी जाती है – अर्जित नि:सहायता

गेस्‍टाल्‍ट का अर्थ है – समग्र के रूप में

धनात्‍मक अंतरण का तत्‍व निम्‍नांकित में कौन-सा है – सीखने का अधिगम

क्रियात्‍मक अनुबन्‍धन का सिद्धान्‍त किसकी देन माना जाता है – स्किनर की

कक्षा-7 का रोहन प्रारम्भिक पाठों को तो तीव्र गति से सीखता है परन्‍तु धीरे-धीरे उसके सीखने की गति कम हो जाती है, एक समय ऐसा आता है कि कितने भी प्रयास करने पर भी वह अधिक नहीं सीख पाता है, यह प्रक्रिया है – अधिगम पठार

सीखने के मुख्‍य नियमों के अतिरिक्त एक अन्‍य नियम भी है, जो मुख्‍य नियमों को विस्‍तार देते हैं। यह अन्‍य नियम है – निकटता का नियम

पावलव ने अधिगम का जो सिद्धान्‍त प्रतिपादित किया था, वह है – अनुकूलित अनुक्रिया

नियमैतिक अनुबंध के सिद्धान्‍त का प्रतिपादक है – स्‍कीनर

निम्‍न में से पूर्ण कारक वाद के नियमों से जो संबंधित नहीं है, वह है – विरूपता

यदि गणित का अधिगम भौतिकी के अधिगम में सहायक हो, तो यह – सकारात्‍मक स्‍थानान्‍तरण

विद्यार्थियों को अगले कार्य के लिए तैयार करने हेतु प्रथम परिस्थिति में प्रदान किया पुनर्बलन अभिप्रेरण का कार्य करता है, यह अधिगम का सिद्धान्‍त है – क्रिया प्रसूत अनुबंध

अन्‍तर्दृष्टि की पुष्टि करने के लिए कोहलर ने जिस चिंपांजी पर प्रयोग किया, उसका नाम था – सुल्‍तान

उत्‍तेजना व्‍यक्ति को सहायता प्रदान करती है – उद्देश्‍य प्राप्ति में

एक विकलांग बालक अत्‍यधिक परिश्रम करके कक्षा में प्रथम आने का प्रयास करता है। इसे किस प्रतिरक्षक प्रणाली में रखेंगे – क्षतिपूर्ति

एक छात्र का अधिगम निम्‍न में से किस पर निर्भर नहीं करता – आर्थिक स्थिति

बालक शरीर के अंगों का संचालन करना सीखता है – किस प्रकार के अधिगम के माध्‍यम से – गत्‍यात्‍मक

एक बालिका को साईकिल चलाना आता है, वह स्‍कूटी खरीदती है, तो आसानी से स्‍कूटी चलाना सीख जाती है, यहाँ अधिगम का कौन सा स्‍थानांतरण है – सकारात्‍मक

चंचल प्रात: जल्‍दी उठने के लिए सुबह 4 बजे का अलार्म भरती है, बजने पर उठ जाती है, 3-4 दिन करने पर अलार्म बजने से पहले ही उसकी नींद खुल जाती है, यहाँ अधिगम का कौन सा सिद्धान्‍त है – शास्‍त्रीय अनुबंधन

सीखना – सम्‍पूर्ण जीवन चलता है। नया कार्य करना। और व्‍यक्तिगत व सामाजिक दोनों।

व्‍यवहार के S-R सम्‍प्रत्‍ययन को अस्‍वीकार कर S-O-R सम्‍प्रत्‍यय किसने प्रस्‍तावित किया – वुडवर्थ

पूजा II Grade की तैयारी कर रही है, उसी दौरान उसके REET का परिणाम आ जाता है तथा वह असफल हो जाती है, वह दु:खी होकर तैयारी बंद कर देती है, क्‍लार्क हल के अनुसार उसे आवश्‍यकता है – पुनर्बलन की

पुनर्बलन के सिद्धान्‍त का प्रतिपादन किया – हल ने

TWEET
Previous Post Next Post